GST में बिना सुनवाई का अवसर दिए धारा- 130 में पारित आदेश खारिज का न्यायिक आदेश

जीएसटी यानी गुड्स एंड सर्विस टैक्स के अंतर्गत यदि भेजे जा रहे माल के साथ डॉक्यूमेंट्स पूरे नहीं है या त्रुटि है अथवा ई-वे बिल भी नही है या E-Way bill में कोई त्रुटि है। तो भी अधिकारी व्यापारी को Mov -10 में कारण बताओ नोटिस जारी करता है, साथ इसके पश्चात् ही Mov-11 भी जारी करेगा, किंतु इन नोटिस के पश्चात् व्यापारी को पर्याप्त अवसर दिया जाना होगा ।

जीएसटी में यदि कोई पिटिशनर e-way bill से भेजे जा रहे किसी माल में बिल की त्रुटि अथवा ई-वेबिल में कोई त्रुटि पाई जाती है तो अधिकारी पिटिशनर को सुनवाई का पर्याप्त अवसर देगा। उसके उपरांत ही आदेश पारित करेगा।

इस संबंध के एक मामले में माल की जांच के दौरान पाया गया कि माल के साथ पूरे डॉक्यूमेंट्स नही है तथा डॉक्यूमेंट्स में कुछ त्रुटी है तथा ई वेबील भी उपलब्ध नही है। पिटिशनर को Mov-10 में कारण बताओ नोटिस दिनांक 25 जुलाई 2020 को जारी किया गया। इसके साथ Mov-11 में 25 जुलाई 2020 को ही आदेश भी पारित कर दिया गया।पिटिशनर का कहना हैं कि बिना सुनवाई का अवसर दिए ही जब्ती का आदेश धारा 130 में पारित कर दिया गया है।

इस संबंध में न्यायालय ने अपने न्यायिक निर्णय दिया है कि बिना सुनवाई का अवसर दिए आदेश जारी करना सही नहीं माना नही जाता, इसलिए इसे खारिज किया जाता है । न्यायालय ने सुनवाई का अवसर प्रदान करके पुनः आदेश पारित करने का आदेश दिया।

न्यायिक निर्णय-

पी. एन. टुबैको बनाम स्टेट ऑफ गुजरात (2020) 29 टैक्सलोक. कॉम 061 (गुजरात)

Leave a Reply