आईये जानते है भारतीय दण्ड संहिता (IPC) 1860 के बारे मे –

भारतीय दण्ड संहिता (IPC) 1860 कुल 511 धाराये है, जिन्हे 23 अध्यायों मे बांटा गया है । जिसे महाराज्यपाल की अनुमति 6 अक्टूबर 1860 को दी गयी थी, इसे पश्चात् 1 जनवरी 1962 को लागू किया गया था ।
आइये हम जानते है, भारतीय दण्ड संहिता (IPC) 1860 को कम शब्दो मे, (IPC) की कुल 511 धाराओ को 23 अध्यायो के अधार पर जानेंगे कि किस अध्याय मे किन धाराओं को बांटा गया है-
अध्याय (Chapter) -1 प्रस्तावना (Introduction) –

Section 1-5

अध्याय (Chapter) -2 साधारण स्पष्टीकरण (General Explanation)

Section 6-52A

अध्याय (Chapter) -3 दण्डों के विषय मे (Punishment)

Section 53-75

अध्याय (Chapter) -4 साधारण अपवाद (General Exception)

इन्हे दो भागो मे बांटा गया है ।


Section 76-106

  • सामान्य रक्षा (General Defense)

Section 76-95

  • निजी अधिकार (Right to Private)

Section 96-106

अध्याय (Chapter) -5 दुष्प्रेरण के विषय (Abetment)

Section 107-120

अध्याय (Chapter) -5A अपराधिक षड्यत्र (Criminal Conspiracy)

Section 120A-120B

अध्याय (Chapter) -6 राज्य के विरूद्ध अपराधो के विषय मे (Offence against State)

Section 121-130

अध्याय (Chapter) -7 सेना, नौ-सेना, वायु सेना से सम्बन्धित अपराधो के विषय मे (Offence Relating to Army, Navy and Air Force)

Section 131-140

अध्याय (Chapter) -8 लोक प्रशान्ति के विरूद्ध अपराधो के विषय मे (Offence Against the Public Tranquility)

Section 141-160

(Section 161 to 165 A Repealed by the Prevention of corruption Act, 1988)

अध्याय (Chapter) -9 लोक सेवको व्दारा या उनसे सम्बन्धित अपराधो के विषय मे (Offence Relating to Public Servants)

Section 166-171

अध्याय (Chapter) -9A निर्वाचन सम्बन्धी अपराधो के विषय मे (Offence Relating to Election)

Section 171A-171I

अध्याय (Chapter) -10 लोक सेवको के विधिपूर्ण प्राधिकार के अवमान के विषय मे (Contempt of Lawful Authority of Public Servant)

Section 172-190

अध्याय (Chapter) -11 मिथ्या साक्ष्य और लोक न्याय के विरूद्ध अपराधो के विषय मे (False Evidence and offence Against Public Justice)

Section 191-229A

अध्याय (Chapter) -12 सिक्को तथा सरकारी स्टाम्पों से सम्बन्धित अपराधो के विषय मे (Relating to Coin and Governments Stamp)

Section 230-263A

अध्याय (Chapter) -13 बांटो तथा मापो से सम्बन्धित अपराधो के विषय मे (Relating to weight and measure)

Section 264-267

अध्याय (Chapter) -14 लोक स्वास्थ, क्षेम, सुविधा शिष्टता और सदाचार पर प्रभाव डालने वाले अपराधो के विषय मे (Affecting the Public health, Safety, harm, convenience, and morality)

Section 268-294A

अध्याय (Chapter) -15 धर्म से सम्बन्धित अपराधो के विषय मे (Relating to Religion)

Section 295-298

अध्याय (Chapter) -16 मानव शरीर पर प्रभाव डालने वाले अपराधो के विषय मे (Affecting the Human Body)

इन्हे आठ भागो मे बांटा गया है ।

Section 299-377

  • जीवन के लिये संकटकारी अपराधो के विषय मे (Relating to Life-threatening crimes)

Section 299-311

  • गर्भपात कारित करने, अज्ञात शिशुओ को क्षति कारित करने, शिशुओं को अरक्षित छोडने और जन्म छिपाने के विषय मे (Causing of Miscarriage of Injuries to unborn Children of the Exposure of infants and of the concealment of Births)

Section 312-318

  • उपहति के विषय मे (Hurt)

Section 319-338

  • सदोष अवरोध और सदोष परिरोध के विषय मे (Wrongful Restraint and wrongful Confinement)

Section 339-348

  • अपराधिक बल और हमले के विषय मे (Criminal Force and Assault)

Section 349-358

  • व्यपहरण, अपहरण, दासत्व, बलातृश्रम के विषय मे (Kidnapping, Abduction, Slavery and force labor)

Section 359-374

  • यौन अपराध (Sexual offense)

Section 375-376E

  • प्रकृति विरूद्ध अपराधो के विषय मे (Unnatural offence)

Section 377-

अध्याय (Chapter) -17 सम्पत्ति के विरूद्ध अपराधो के विषय मे (offence Against Property)

इन्हे दस भागो मे बांटा गया है ।

Section 378-462

  • चोरी (Theft)

Section 378-382

  • उद्दापन के विषय मे (Extortion)

Section 383-389

  • लूट डकैती के विषय मे (Robbery and Dacoit)

Section 390-402

  • सम्पत्ति के अपराधिक दुर्विनियोग के विषय मे (Criminal misappropriation of Property)

Section 403-404

  • अपराधिक न्यास भंग के विषय मे (Criminal Breach of Trust)

Section 405-409

  • चुराई हुयी सम्पत्ति प्राप्त करने के विषय मे (Receiving of Stolen Property)

Section 410-414

  • छल के विषय मे (Cheating)

Section 415-420

  • कपट पूर्ण विलेखो और सम्पत्ति व्ययनो के विषय मे (Fraudulent Deeds and dispositions of Property)

Section 421-424

  • रिष्टि के विषय मे (Mischief)

Section 425-440

  • अपराधिक अतिचार के विषय मे (Criminal Trespass)

Section 441-462

अध्याय (Chapter) -18 दस्तावेजो और सम्पत्ति सम्बन्धी अपराधो के विषय मे (Relating to documents and Property marks)

इन्हे तीन भागो मे बांटा गया है ।

Section 463-489E

  • क्षमा और अन्य प्रावधान (Forgery and other Provisions)

Section 463-477A

  • सम्पत्ति चिन्हों और अन्य चिन्हों के विषय मे (Property and other marks)

Section 478-489

  • करैन्सी नोटो और बैंक नोटो के विषय मे (Currency Notes and Bank Notes)

Section 489A-489E

अध्याय (Chapter) -19 सेवा संविदाओ के अपराधिक भंग के विषय मे (Criminal Breach of Contracts of Service)

Section 490-492

अध्याय (Chapter) -20 विवाह सम्बन्धी अपराधो के विषय मे (offence Relating to marriage)

Section 493-498

अध्याय (Chapter) -20A पति या पति के नातेदार व्दारा क्रूरता के विषय मे (Cruelty by husband or relation of husband)

Section 498A

अध्याय (Chapter) -21 मानहानि के विषय मे (Defamation)

Section 499-502

अध्याय (Chapter) -22 अपराधिक, अभिप्रास, अपमान और क्षोभ के विषय मे (Criminal Intimidation, Insult and Annoyance)

Section 503-510

अध्याय (Chapter) -23 अपराधों को करने के प्रयत्न के विषय मे (Attempts of Commit offences)

Section 511

46 thoughts on “आईये जानते है भारतीय दण्ड संहिता (IPC) 1860 के बारे मे –”

Leave a Comment