धारा-308 गैर इरादतन हत्या करने का प्रयास (IPC-308 Attempt to commit culpable homicide)

कोई व्यक्ति इस तरह के इरादे या बोध के साथ ऐसी परिस्थितियों में कोई कार्य करता है, जिससे वह किसी की मृत्यु का कारण बन जाए, तो वह गैर इरादतन हत्या (जो हत्या की श्रेणी मे नही आता) का दोषी होगा, और उसे किसी एक अवधि के लिए कारावास जिसे तीन वर्ष तक बढ़ाया जा सकता है, या आर्थिक दंड, या दोनों से, दण्डित किया जाएगा ।
और, यदि इस तरह के कृत्य से किसी व्यक्ति को चोट पहुँचती है, तो अपराधी को किसी एक अवधि के लिए कारावास जिसे सात वर्ष तक बढ़ाया जा सकता है, या आर्थिक दंड, या दोनों से, दण्डित किया जाएगा।

धारा-308 के अंतर्गत सजा का प्रावधान

हम मे से बहुत लोगों ने सुना है जब कोई व्यक्ति गैर इरादतन किसी व्यक्ति की हत्या करने का प्रयास करता है, लेकिन वह यह नही जानता है कि ऐसे कृत्य करने वाला व्यक्ति भारतीय दण्ड संहिता की धारा-308 के अन्तर्गत अपराधी होगा । ऐसे अपराधी व्यक्तियों को सत्र न्यायालय व्दारा न्यायविवेकानुसार एक अवधि के लिए कारावास जिसे तीन वर्ष या इससे अधिक 7 वर्षो तक बढ़ाया जा सकता है, या आर्थिक दंड, या दोनों से, दण्डित किया जाएगा ।यह अपराध समझौता करने योग्य नहीं है।

लागू अपराध

गैर इरादतन हत्या करने का प्रयास करने वाले व्यक्ति को 3 वर्ष कारावास या आर्थिक दंड या दोनों न्यायालय व्दारा न्यायविवेकानुसार भागीदारी होगा । यह एक गैर-जमानती, संज्ञेय अपराध है और सत्र न्यायालय व्दारा विचारणीय है।
इस तरह के कृत्य से किसी भी व्यक्ति को चोट पहुँचती है तब वह 3 साल या जुर्माना या दोनो अथवा 7 वर्ष कारावास या आर्थिक दंड या दोनों न्यायालय व्दारा न्यायविवेकानुसार भागीदारी होगा । यह एक गैर-जमानती, संज्ञेय अपराध है और सत्र न्यायालय व्दारा विचारणीय है।

Leave a Reply