धारा- 311 ठगी के लिये दण्ड (IPC 311 Punishment of trickery)

भारतीय दंड संहिता की धारा 311 के अनुसार-

जो भी कोई व्यक्ति ठगी करेगा, उसे आजीवन कारावास से दण्डित किया जाएगा, और साथ ही वह आर्थिक दण्ड के लिए भी उत्तरदायी होगा।

लागू अपराध

कोई व्यक्ति ऐसा घृणित कार्य जब करता है तो उसे भारतीय संविधान के अनुसार दण्डित का भागीदार होता है । ठगी जैसे अपराध के लिये आजीवन कारावास व आर्थिक दण्ड अथवा दोनो का भागीदार होगा । यह एक गैर-जमानती, संज्ञेय अपराध है और सत्र न्यायालय व्दारा विचारणीय है और समझौता योग्य नही है ।

Leave a Reply