fbpx

आईपीसी की धारा 153-AA | किसी जलूस में जानबूझकर आयुध ले जाने या किसी सामूहिक ड्रिल या सामूहिक प्रशिक्षण का आयुध सहित संचालन या आयोजन करना या उसमें भाग लेना | IPC Section- 153-AA in hindi | Punishment for Knowingly carrying arms in any procession or organising, or holding or taking part in any mass drill or mass training with arms.

नमस्कार दोस्तों, आज हम आपके लिए भारतीय दंड संहिता की धारा 153-AA के बारे में पूर्ण जानकारी देंगे। क्या कहती है भारतीय दंड संहिता की धारा 153-AA? साथ ही हम आपको IPC की धारा 153-AA सम्पूर्ण जानकारी कैसे क्या सजा मिलती है और जमानत कैसे मिलेगी, और यह अपराध किस श्रेणी में आता है, इस लेख के माध्यम से आप तक पहुंचाने का प्रयास करेंगे।

धारा 153-AA का विवरण

भारतीय दण्ड संहिता (IPC) में धारा 153-AA के विषय में पूर्ण जानकारी देंगे। जो कोई किसी सार्वजनिक स्थान पर अथवा अन्य जुलूस में, जबकि वह स्थान जहां शस्त्र और आयुध वर्जित है अथवा किसी आदेश के उल्लंघन में जानबूझकर आयुध या शस्त्र ले जाता है या संचालन करता है अथवा भाग लेता है तो वह भारतीय दंड संहिता की धारा 153-AA के अंतर्गत दंड का भागीदार होगा। भारतीय दण्ड संहिता की धारा 153-AA इसी विषय के बारे में बतलाती है।

आईपीसी की धारा 153-AA के अनुसार

किसी जलूस में जानबूझकर आयुध ले जाने या किसी सामूहिक ड्रिल या सामूहिक प्रशिक्षण का आयुध सहित संचालन या आयोजन करना या उसमें भाग लेना-

जो कोई किसी सार्वजनिक स्थान में, दण्ड प्रक्रिया संहिता, 1973 (1974 का 2) की धारा 144क के अधीन जारी की गई किसी लोक सूचना या किए गए किसी आदेश के उल्लंघन में किसी जलूस में जानबूझकर आयुध ले जाता है या सामूहिक ड्रिल या सामूहिक प्रशिक्षण का आयुध सहित जानबूझकर संचालन या आयोजन करता है या उसमें भाग लेता है तो वह कारावास से, जिसकी अवधि छह मास तक की हो सकेगी और जुर्माने से, जो दो हजार रुपए तक का हो सकेगा, दण्डित किया जाएगा।स्पष्टीकरण–“आयुध” से अपराध या सुरक्षा के लिए हथियार के रूप में डिजाइन की गई या अपनाई गई किसी भी प्रकार की कोई वस्तु अभिप्रेत है और इसके अन्तर्गत अग्नि शस्त्र, नुकीली धार वाले हथियार लाठी, डण्डा और छड़ी भी है।

Punishment for knowingly carrying arms in any procession or organising, or holding or taking part in any mass drill or mass training with arms-

Whoever knowingly carries arms in any procession or organizes or holds or takes part in any mass drill or mass training with arms in any public place in contravention of any public notice or order issued or made under Section 144-A of the Code of Criminal Procedure, 1973 (2 of 1974) shall be punished with imprisonment for a term which may extend to six months and with fine which may extend to two thousand rupees.

Explanation. “Arms” means articles of any description designed or adapted as weapons for offence or defence and includes fire arms, sharp edged weapons, lathis, dandas and sticks.

जब कोई व्यक्ति किसी विधिविरुद्ध जुलूस अथवा किसी सार्वजनिक स्थान पर, जानबूझकर आयुध या शस्त्र जैसे ले जाते है अथवा आयुध सहित संचालन या आयोजन करता या उसमे भाग लेता है तो यह धारा अप्लाई होगी।

लागू अपराध

किसी जलूस में जानबूझकर आयुध ले जाने या किसी सामूहिक ड्रिल या सामूहिक प्रशिक्षण का आयुध सहित संचालन या आयोजन करना या उसमें भाग लेना।
सजा- छह माह का कारावास, और दो हजार रूपए का जुर्माना।
यह एक गैर-जमानतीय, संज्ञेय अपराध है और किसी भी मजिस्ट्रेट द्वारा विचारणीय है।
यह अपराध समझौता योग्य नही है।

सजा (Punishment) का प्रावधान

भारतीय दंड संहिता की धारा 153-AA के अंतर्गत जो कोई  किसी जुलूस में जानबूझकर शस्त्र अथवा आयुध ले जाने, या आयुध का प्रशिक्षण देने, संचालन या आयोजन करने अथवा उसमे भाग लेता है तो वह कारावास से, जिसकी अवधि छह मास तक की हो सकेगी और जुर्माने से, जो दो हजार रुपए तक का हो सकेगा, दण्डित किया जाएगा।

जमानत (Bail) का प्रावधान

जो कोई व्यक्ति किसी विधिविरुद्ध जुलूस अथवा किसी सार्वजनिक स्थान पर, जानबूझकर आयुध या शस्त्र जैसे ले जाते है अथवा आयुध सहित संचालन या आयोजन करता या उसमे भाग लेता है तो वह व्यक्ति भारतीय दंड संहिता की धारा 153-AA के अंतर्गत दंड का भागीदार होगा ऐसे अपराध कारित करने वाले व्यक्ति अपराध के अनुसार ही मामले में पुलिस द्वारा FIR दर्ज करती है यह अपराध गैर-जमानतीय होने के कारण जमानत आसानी से नही मिल सकेगी।

अपराधसजासंज्ञेयजमानतविचारणीय
किसी जलूस में जानबूझकर आयुध ले जाने या किसी सामूहिक ड्रिल या सामूहिक प्रशिक्षण का आयुध सहित संचालन या आयोजन करना या उसमें भाग लेना।छह माह का कारावास, और दो हजार रूपए का जुर्माना।संज्ञेयगैर-जमानतीयकिसी भी वर्ग के मजिस्ट्रेट

हमारा प्रयास आईपीसी की धारा 153-AA की पूर्ण जानकारी, आप तक प्रदान करने का है, उम्मीद है कि उपरोक्त लेख से आपको संतुष्ट जानकारी प्राप्त हुई होगी, फिर भी अगर आपके मन में कोई सवाल हो, तो आप कॉमेंट बॉक्स में कॉमेंट करके पूछ सकते है।

Leave a Comment