आईपीसी की धारा 204 | साक्ष्य के रूप में किसी [दस्तावेज या इलेक्ट्रानिक अभिलेख] का पेश किया जाना निवारित करने के लिये उसको नष्ट करना | IPC Section- 204 in hindi | Destruction of [document or electronic record] to prevent its production as evidence.

नमस्कार दोस्तों, आज हम आपके लिए भारतीय दंड संहिता की धारा 204 के बारे में सम्पूर्ण जानकारी देंगे। क्या कहती है भारतीय दंड संहिता की धारा 204? साथ ही हम आपको IPC की धारा 204 के अंतर्गत कैसे क्या सजा मिलती है और जमानत कैसे मिलती है, और यह अपराध किस श्रेणी में आता है, इस लेख के माध्यम से आप तक पहुंचाने का प्रयास करेंगे।

IPC की धारा 204 का विवरण

भारतीय दण्ड संहिता (IPC) में धारा 204 के विषय में पूर्ण जानकारी देंगे। जो कोई किसी ऐसे दस्तावेज या इलेक्ट्रानिक अभिलेख को छिपायेगा या नष्ट करेगा, जिसे किसी न्यायालय में या ऐसी कार्यवाही में, पेश किया जाना जरूरी हो, जो कोई व्यक्ति दस्तावेज या इलेक्ट्रानिक अभिलेख को छिपायेगा या नष्ट करेगा, तो वह व्यक्ति धारा 204 के अंतर्गत दंड एवं जुर्माने से दण्डित किया जाएगा।

आईपीसी की धारा 204 के अनुसार-

साक्ष्य के रूप में किसी [दस्तावेज या इलेक्ट्रानिक अभिलेख] का पेश किया जाना निवारित करने के लिये उसको नष्ट करना-

जो कोई किसी ऐसे [दस्तावेज या इलेक्ट्रानिक अभिलेख] को छिपायेगा या नष्ट करेगा, जिसे किसी न्यायालय में या ऐसी कार्यवाही में, जो किसी लोक-सेवक के समक्ष उसकी वैसी हैसियत में विधिपूर्वक की गई है, साक्ष्य के रूप में पेश करने के लिये उसे विधिपूर्वक विवश किया जा सके, या पूर्वोक्त न्यायालय या लोक-सेवक के समक्ष साक्ष्य के रूप में पेश किये जाने या उपयोग में लाये जाने से निवारित करने के आशय से, या उस प्रयोजन के लिये उस [दस्तावेज या इलेक्ट्रानिक अभिलेख] को पेश करने को उसे विधिपूर्वक समनित या अपेक्षित किये जाने के पश्चात्, ऐसे सम्पूर्ण [दस्तावेज या इलेक्ट्रानिक अभिलेख] को, या उसके किसी भाग को, मिटायेगा, या ऐसा बनायेगा, जो पढ़ा न जा सके, वह दोनों में से किसी भाँति के कारावास से, जिसकी अवधि दो वर्ष तक की हो सकेगी, या जुर्माने से, या दोनों से, दण्डित किया जायेगा।

Destruction of [document or electronic record] to prevent its production as evidence-
Whoever secretes or destroys any [document or electronic record] which he may be lawfully compelled to produce as evidence in a Court of Justice, or in any proceeding lawfully held before a public servant, as such, or obliterates or renders illegible the whole or any part of such ‘[document or electronic record] with the intention of preventing the same from being produced or used as evidence before such Court or public servant as aforesaid, or after he shall have been lawfully summoned or required to produce the same for that purpose, shall be punished with imprisonment of either description for a term which may extend to two years, or with
fine, or with both.

लागू अपराध

साक्ष्य के रूप में किसी दस्तावेज या इलेक्ट्रानिक अभिलेख का पेश किया जाना निवारित करने के लिये उसको नष्ट करना।
सजा- दो वर्ष के लिए कारावास या जुर्माना या दोनो।
यह एक जमानतीय, गैर-संज्ञेय अपराध है और प्रथम श्रेणी के मजिस्ट्रेट द्वारा विचारणीय है।

जुर्माना/सजा (Fine/Punishment) का प्रावधान

भारतीय दंड संहिता की धारा 204 के अंतर्गत जो कोई किसी ऐसे दस्तावेज या इलेक्ट्रानिक अभिलेख को छिपाता या नष्ट करता है, जिसे किसी न्यायालय में या ऐसी कार्यवाही में, पेश किया जाना जरूरी है, जो कोई व्यक्ति दस्तावेज या इलेक्ट्रानिक अभिलेख को छिपायेगा या नष्ट करेगा तो वह व्यक्ति दो वर्ष के लिए कारावास या जुर्माने से या दोनो से दंड का भागीदार होगा।

जमानत (Bail) का प्रावधान

भारतीय दंड संहिता की धारा 204 अंतर्गत जो अपराध कारित किए जाते है वह अपराध दंड प्रक्रिया संहिता में जमानतीय (Baileble) है, इसलिए इस धारा के अंतर्गत किए गए अपराध जमानतीय होने के कारण जमानत आसानी से मिल जाती है।

[table id=66 /]

हमारा प्रयास आईपीसी की धारा 204 की पूर्ण जानकारी, आप तक प्रदान करने का है, उम्मीद है कि उपरोक्त लेख से आपको संतुष्ट जानकारी प्राप्त हुई होगी, फिर भी अगर आप के पास कोई सवाल हो, तो आप कॉमेंट बॉक्स में कॉमेंट करके पूछ सकते है।

Leave a Comment